Latest news : आर्थिक : शेयर बाजार हुआ धड़ाम, सेंसेक्स 500 अंक और निफ्टी 168 अंक नीचे| कानून : केजरीवाल को 2 जून को करना होगा सरेंडर, SC ने नहीं स्वीकारी अंतरिम जमानत बढ़ाने की याचिका| राजकोट TRP गेम जोन केस: 5वें आरोपी किरीट सिंह जडेजा को क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार| जम्मू-कश्मीर : पुंछ में LoC के पास संदिग्ध पाक ड्रोन पर BSF ने की फायरिंग| छिंदवाड़ा: एक ही परिवार के 8 लोगों की कुल्हाड़ी मार कर हत्या, हत्यारे ने की खुदखुशी|

manish shukla

विधान सभा अध्यक्ष ने किया भुला न देना, प्रोफेसर माँ के लाल व महाशून्य का विमोचन

विधान सभा अध्यक्ष ने किया भुला न देना, प्रोफेसर माँ के लाल व महाशून्य का विमोचन

- डॉ मनीष शुक्ल, वरिष्ठ पत्रकार श्रीधर अग्निहोत्री और डॉ रश्मि कौशल की पुस्तक का विमोचन   - शिल्पायन बुक्स दिल्ली के उमेश शर्मा ने लिया प्रकाशित   - लखनऊ पुस्तक मेले के आयोजक मनोज चंदेल ने कानपुर समेत अन्य शहरों में मेला आयोजित करने का आह्वान किया   लखनऊ| उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना ने डिजिटल युग में साहित्य लेखन का भविष्य उज्ज्वल बताया| लखनऊ पुस्तक मेले में जाने माने लेखकों की किताबों का विमोचन करते हुए उन्होने युवाओं के  तकनीक और साहित्य के संगम को जरूरी बताया| विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि हिन्दी साहित्य आजार अमर…
Read More
निलंबित मौन का स्वर ही मुखर आवाज

निलंबित मौन का स्वर ही मुखर आवाज

विधान सभा अध्यक्ष सतीश महाना ने मनीष शुक्ल के  कविता संग्रह निलंबित मौन के स्वर का विमोचन किया लखनऊ पुस्तक मेले में कलमकारों ने संवाद व् परिचर्चा की विश्व कविता दिवस के मौके पर उत्तर प्रदेश के विधान सभा अध्यक्ष सतीश महाना ने साहित्यकार- पत्रकार मनीष शुक्ल के पहले कविता संग्रह निलंबित मौन के स्वर का विमोचन किया| उन्होंने कविता को अभिव्यक्ति का सबसे सशक्त माध्यम बताया| उधर लखनऊ पुस्तक मेला में आयोजित ‘संवाद’ कार्यक्रम में जाने- माने कलमकारों ने ‘निलंबित मौन के स्वर’ पर विचार प्रकट किये| लखनऊ पुस्तक मेले में मनीष शुक्ल के कविता संग्रह निलम्बित मौन के…
Read More
विश्व पुस्तक मेले में मनीष शुक्ल के  कविता संग्रह निलंबित मौन के स्वर पर चर्चा

विश्व पुस्तक मेले में मनीष शुक्ल के  कविता संग्रह निलंबित मौन के स्वर पर चर्चा

साहित्य के महाकुम्भ विश्व पुस्तक मेला में आयोजित ‘संवाद’ कार्यक्रम में चर्चित कथाकार, पत्रकार व व्यंग्यकार मनीष शुक्ल के पहले कविता संग्रह ‘निलंबित मौन के स्वर’ के विमोचन समारोह में आयोजित लेखक से संवाद कार्यक्रम में पुस्तक पर चर्चा हुई| वरिष्ठ साहित्यकारों एवं राजनेताओं ने कविता को लेकर अपने संस्मरण और अनुभव साझा किये| मुख्य अतिथि भाजपा संसदीय दल के कार्यालय सचिव व राष्ट्रीय प्रमुख, भाजपा प्रकाशन विभाग डॉ शिव शक्ति बक्शी ने कहा कि कविता अंतर्मन में छिपे भाव हैं जो शब्दों के रूप में प्रकट होते हैं! कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए साध्वी प्रज्ञा भारती ने कहा कि…
Read More
मोदी मैजिक में छिपा जनता के प्यार और विश्वास का सन्देश

मोदी मैजिक में छिपा जनता के प्यार और विश्वास का सन्देश

मनीष शुक्ल वरिष्ठ पत्रकार दिल्ली के बाद गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव पारिणाम आ चुके हैं! गुजरात में 27 साल तक सत्ता में रहने के बाद भाजपा ने जीत का नया रिकार्ड बनाया है! इतने सालों में घर- परिवार और रिश्ते- नातों में भी मन मुटाव का दौर आ- जाता है लेकिन एक- दूसरे के प्रति प्यार और विश्वास में लगातार बढ़ोत्तरी रिश्तों की प्रगाढ़ता को भी  बयान करता है! गुजरातवासियों ने भाजपा को विधान सभा चुनाव में एतिहासिक जीत दिलाकर यही सन्देश दिया! यह सन्देश है जनता को अपने पीएम पर प्यार और विश्वास न सिर्फ जारी है…
Read More
व्यंग्य यात्री 2022 व कविता संग्रह ‘जि़ंदगी इतनी आसान नहीं का लोकार्पण

व्यंग्य यात्री 2022 व कविता संग्रह ‘जि़ंदगी इतनी आसान नहीं का लोकार्पण

लखनऊ पुस्तक मेले में लोकार्पण समारोह लखनऊ पुस्‍तक मेले में सोमवार को वरिष्‍ठ पत्रकार एवं कथाकार मनीष शुक्‍ल के संपादन में प्रकाशित व्‍यंग्‍य संग्रह ‘व्‍यंग्‍य यात्री 2022’ एवं डॉ.शिल्‍पी बख्‍शी शुक्‍ला के काव्‍य संग्रह ‘जि़ंदगी इतनी  आसान नहीं’ का लोकार्पण किया गया। लोकार्पण कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि डॉ. सूर्य कुमार पाण्‍डेय, अति विशिष्‍ट अतिथि महेन्‍द्र भीष्‍म व संजीव कुमार ‘संजय’ काव्य और व्यंग्य के संगम को साहित्य धारा का नया प्रतीक बताया। मुख्‍य अतिथि  डॉ. सूर्य कुमार पाण्‍डेय ने ‘व्‍यंग्‍य यात्री 2022’ पुस्‍तक पर चर्चा करते कहा कि व्‍यंग्‍य संग्रह ‘‘व्‍यंग्‍य यात्री 2022’ में एक से बढ़ कर एक चुटीले…
Read More
लघु कहानी : जोशी जी के दर्द पर मरहम

लघु कहानी : जोशी जी के दर्द पर मरहम

लेखक : मनीष शुक्ल अचानक आँखों से आंसुओं की धारा बहने लगती है। इतनी भी हिम्मत नहीं होती है कि अपना हाथ बढ़ाकर उन आंसुओं को पोंछ सकें। बस, असहनीय दर्द और अकेलेपन का अहसास यही जेहन में घूमता रहता है। शब्द खुद ब खुद बढ़बढ़ाने लगते हैं... शायद अब मेरा समय आ गया है। तभी ये लोग मुझसे दूर भागते हैं। कोई भी मेरे पास नहीं बैठता है। कोई भी मेरा ध्यान नहीं रखता है... जोशी जी बिस्तर पर लेटे- लेटे अपने वजूद को लेकर ख्याल बुन रहे थे। उनको लकवा मारे अब तीन साल हो गया था। इलाज…
Read More