Latest news : आर्थिक : शेयर बाजार हुआ धड़ाम, सेंसेक्स 500 अंक और निफ्टी 168 अंक नीचे| कानून : केजरीवाल को 2 जून को करना होगा सरेंडर, SC ने नहीं स्वीकारी अंतरिम जमानत बढ़ाने की याचिका| राजकोट TRP गेम जोन केस: 5वें आरोपी किरीट सिंह जडेजा को क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार| जम्मू-कश्मीर : पुंछ में LoC के पास संदिग्ध पाक ड्रोन पर BSF ने की फायरिंग| छिंदवाड़ा: एक ही परिवार के 8 लोगों की कुल्हाड़ी मार कर हत्या, हत्यारे ने की खुदखुशी|

fitness

फिटनेस : प्रोटीन का खेल

फिटनेस : प्रोटीन का खेल

डॉ सरनजीत सिंह फिटनेस एंड स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट हमारे शरीर को सुचारु रूप से चलाने के लिए हमें करीब चालीस तरह के पोषक तत्वों की ज़रुरत होती है. ये पोषक तत्व हमें भोजन से लेने पड़ते हैं. इन तत्वों को शरीर के लिए ज़रूरी मात्रा के आधार पर दो श्रेणियों में बाँटा जाता है. जिन तत्वों की हमें ज़्यादा मात्रा में ज़रुरत होती है उन्हें ‘मैक्रोन्युट्रिएंट्स’ और जिन तत्वों की हमें कम मात्रा में ज़रुरत होती है उन्हें ‘माइक्रोन्युट्रिएंट्स’ कहते हैं. कार्बोहाइड्रेट्स, फैट, प्रोटीन और पानी मैक्रोन्यूट्रिएंट की श्रेणी में आते हैं और तमाम तरह के विटामिन्स और मिनरल्स माइक्रोन्युट्रिएंट्स…
Read More
फिटनेस : बॉडीबिल्डिंग… ये कैसा स्पोर्ट?

फिटनेस : बॉडीबिल्डिंग… ये कैसा स्पोर्ट?

डॉ सरनजीत सिंह फिटनेस एंड स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट बॉडीबिल्डिंग का मतलब तो हम सभी जानते हैं लेकिन पिछले कुछ सालों में इसके मायने पूरी तरह से बदल चुके हैं. ‘मदर ऑफ़ ऑल स्पोर्ट्स’ कहे जाने वाले इस स्पोर्ट की परिभाषा पूरी तरह से बदल चुकी है. दरअसल ज़्यादातर खेलों में खिलाड़ियों की शक्ति (स्ट्रेंथ), सहनशीलता (एंडुरेंस), लचीलापन (फ्लेक्सिबिलिटी), गति (स्पीड), त्वरण (एक्सेलरेशन) और चपलता (एजिलिटी) बढ़ाने के लिए शरीर की सभी मांस-पेशियों को मज़बूत बनाना बहुत ज़रूरी होता है. इस ट्रेनिंग को ‘बेसलाइन फिटनेस ट्रेनिंग’ कहा जाता है. बेसलाइन फिटनेस विकसित होने के बाद खिलाड़ियों का प्रदर्शन बेहतर करने के…
Read More
मानसिक स्वास्थ्य की गहराती समस्या

मानसिक स्वास्थ्य की गहराती समस्या

अरविंद जयतिलक यह बेहद चिंताजनक है कि कोरोना महामारी के कारण 15 से 24 साल का हर सातवां भारतीय मानसिक अवसाद की समस्या से अभिशप्त है। यह खुलासा बाल अधिकारों के लिए काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनीसेफ ने किया है। यूनीसेफ ने 21 देशों में 20 हजार बच्चों के बीच सर्वे के आधार रपर यह रिपोर्ट तैयार की है। सर्वे में कहा गया है कि भारत में 15 से 24 साल के किशोरों एवं युवाओं में से केवल 41 फीसद ने मानसिक समस्याओं के लिए सहयोग मानने को सही बताया जबकि पूरी दुनिया में औसतन 83 फीसद…
Read More
मोटापा कम करने के नाम पर ख़रबों की ठगी

मोटापा कम करने के नाम पर ख़रबों की ठगी

डॉ सरनजीत सिंह फिटनेस एंड स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट आप सभी मेरी इस बात से ज़रूर सहमत होंगे कि किसी भी छोटी-बड़ी समस्या के उचित समाधान के लिए उस विषय पर सटीक जानकारी होना बहुत ज़रूरी होता है. अब अगर समस्या आपके स्वस्थ्य से जुड़ी हो तो ये जानकारी और भी ज़रूरी हो जाती है. आज मोटापा (ओबेसिटी) पूरे विश्व में स्वास्थ से जुड़ी एक बहुत बड़ी समस्या बन चुका है. तमाम मेडिकल रिसर्चेस होने के बावज़ूद आज तक हम इसे किसी दवा से नियंत्रित करने में नाकाम रहे हैं. इस विषय पर सही जानकारी न होने की वज़ह से पिछले…
Read More
फिटनेस इंडस्ट्री और ‘फिट इंडिया’: कितना सच कितना झूठ

फिटनेस इंडस्ट्री और ‘फिट इंडिया’: कितना सच कितना झूठ

डॉ सरनजीत सिंह पिछले करीब 20-25 सालों में फिटनेस शब्द का जितना प्रयोग हमारे देश में हुआ शायद ही किसी देश में हुआ होगा. तमाम टीवी चैनल्स पर आये दिन इसकी चर्चा होती है, अख़बारों और मैगज़ीन्स में फिटनेस और लाइफस्टाइल से जुड़े डेली और वीकली कॉलम्स छप रहे हैं. इसके अलावा इंटरनेट पर हज़ारों-लाखों वेबसाइट्स और यू ट्यूब चैनल्स हैं जहाँ हेल्थ और फिटनेस के गुर दिए जा रहे हैं. इन सालों में जैसे-जैसे फिटनेस पर ज़ोर दिया जाने लगा वैसे-वैसे इस इंडस्ट्री से जुड़े कई व्यवसाय भी खूब फलने-फूलने लगे. फिर चाहे वो जिम्स या हेल्थ सेंटर्स की…
Read More
फिल्म्स, बॉडी ट्रांसफॉर्मेशन और ड्रग्स

फिल्म्स, बॉडी ट्रांसफॉर्मेशन और ड्रग्स

डॉ सरनजीत सिंह फिटनेस एंड स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट ट्रांसफॉर्मेशन का हिंदी में अर्थ होता है, बदलाव या परिवर्तन. वहीं बॉडी ट्रांसफॉर्मेशन का मतलब है शरीर में परिवर्तन लाना जिसमें बॉडी की शेप, साइज, वज़न, फिटनेस, स्ट्रेंथ, स्टैमिना, सहनशीलता, व्यक्तित्व आदि में बदलाव लाया जाता है. प्राकृतिक तरीके से बॉडी ट्रांसफॉर्मेशन करना एक बहुत वैज्ञानिक और जटिल प्रक्रिया है. इसमें वैज्ञानिक तरीके से एक्सरसाइज करना, संतुलित आहार लेना, उचित नींद और एक सकारात्मक सोच की ज़रुरत होती है. अब जैसा कि हम सभी जानते हैं कि फ़िल्में हमारे समाज पर सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह का प्रभाव डालती हैं. शारीरिक बदलाव…
Read More
“असफलता उतनी ही महत्वपूर्ण क्यों है जितनी सफलता।”

“असफलता उतनी ही महत्वपूर्ण क्यों है जितनी सफलता।”

मनीष नागर "प्रैक्टिशनर लाइफ कोच और डिजिटल ग्रोथ मार्केटर" क्या हममें से किसी ने असफलता का सपना देखा है? या असफलता हमें सफलता प्राप्त करने के तरीके में कैसे आकार देती है? अधिकांश लोग "नहीं" के साथ उत्तर देंगे। समस्या यह है कि कैसे अधिकांश लोग सफल नहीं होने के बाद अयोग्य महसूस करते हैं। 1.     असफलता आपको बढ़ने की दिशा देती है। हम में से अधिकांश लोग अपने द्वारा लिए गए सभी निर्णयों का अनुमान लगाते रहते हैं। असफलता आपको पुनर्निर्देशन का मार्ग देती है। आप हर जगह पर स्पष्टता की भावना प्राप्त करते हैं कि आप गलत हो…
Read More
सिओल से अटलांटा: डोपिंग रहस्य

सिओल से अटलांटा: डोपिंग रहस्य

डॉ सरनजीत सिंह फिटनेस एंड स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट हम जानते हैं कि 1988 सिओल ओलिंपिक की में’स ‘100 मीटर’ रेस में मुकाबला आठ बार ओलिंपिक गोल्ड मेडल जीत चुके अमेरिका के स्प्रिंटर कार्ल लुइस, 1984 लॉस एंजेल्स में दो ब्रॉन्ज़ मेडल जीतने वाले, जमैका में पैदा हुए कैनेडियन स्प्रिंटर बेन जॉनसन, 1986 यूरोपियन एथलेटिक्स चैम्पियनशिप्स में गोल्ड मेडल जीतने वाले, जमैका में पैदा हुए ब्रिटिश स्प्रिंटर लिंफ़ोर्ड क्रिस्टी और 1984 ओलंपिक्स की 4×100 मीटर रिले रेस के गोल्ड मेडल विजेता कैल्विन स्मिथ के बीच हुआ था. इस रेस में बेन जॉनसन के डोपिंग में पकड़े जाने के बाद उसका गोल्ड…
Read More
विशेष : तो हमारे पास भी होते कई गोल्ड मेडल

विशेष : तो हमारे पास भी होते कई गोल्ड मेडल

डॉ. सरनजीत सिंह फिटनेस एंड स्पोर्ट्स मेडिसिन स्पेशलिस्ट टोक्यो ओलिंपिक में भारत के शानदार प्रदर्शन पर सभी देशवासियों को बहुत बहुत बधाई. मैं जनता हूँ कि हमेशा की तरह इस बार भी कई लोगों के दिलों में एक सवाल ज़रूर होगा, कि हमारे देश की इतनी बड़ी आबादी होने के बावज़ूद हमें ओलिंपिक में इतने कम मेडल्स क्यों मिलते हैं? कई बार हमारे खिलाड़ी मेडल्स जीतने के बेहद करीब आने पर हार क्यों जाते हैं? या कई बार हमारे गोल्ड जीतने के हकदार खिलाड़ी या तो प्रतियोगिता से ही बाहर हो जाते हैं, या फिर उन्हें सिल्वर या ब्रॉन्ज़ से…
Read More
“भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य” के लिए “जीवन शैली” में 5 सुधार!

“भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य” के लिए “जीवन शैली” में 5 सुधार!

इन परिवर्तनों को करने से आपके जीवन के सभी पहलुओं में लाभ होगा।यह आपके मूड को बढ़ा सकता है, लचीलापन बना सकता है।आपके जीवन के संपूर्ण आनंद को बढ़ा सकता है। मनीष नागर - "ग्रोथ मार्केटर और प्रैक्टिशनर लाइफ कोच"! 1.     एक चीज पर फोकस करें (पल में)। दिनचर्या की गतिविधियों के प्रति जागरूकता लाकर शुरुआत करें, जैसे कि स्नान करना, दोपहर का भोजन करना। इन अनुभवों की शारीरिक संवेदनाओं, ध्वनियों, गंधों या स्वाद पर ध्यान देने से आपको ध्यान केंद्रित करने में मदद मिलती है। 2.     अपने आप को कुछ सकारात्मक बताएं। अनुसंधान से पता चलता है कि आप…
Read More