Latest news : आर्थिक : शेयर बाजार हुआ धड़ाम, सेंसेक्स 500 अंक और निफ्टी 168 अंक नीचे| कानून : केजरीवाल को 2 जून को करना होगा सरेंडर, SC ने नहीं स्वीकारी अंतरिम जमानत बढ़ाने की याचिका| राजकोट TRP गेम जोन केस: 5वें आरोपी किरीट सिंह जडेजा को क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार| जम्मू-कश्मीर : पुंछ में LoC के पास संदिग्ध पाक ड्रोन पर BSF ने की फायरिंग| छिंदवाड़ा: एक ही परिवार के 8 लोगों की कुल्हाड़ी मार कर हत्या, हत्यारे ने की खुदखुशी|

प्रकृति

चंद्रयान 3 : योगी ने दी बधाई, चौधरी ने हर्ष जताया

चंद्रयान 3 : योगी ने दी बधाई, चौधरी ने हर्ष जताया

लखनऊ  । चंद्रयान 3 की सफलता पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बधाई दी है| उन्होंने प्रधानमंत्री के नेतृत्व में दिए गए दिशा निर्देश को महत्वपूर्ण बताया| उन्होंने देश के वैज्ञानिकों का भी सम्मान किया| भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री भूपेंद्र सिंह चौधरी ने चन्द्रयान-3 की दक्षिण ध्रुव पर सफल लैंडिंग करके काल के कपाल पर इतिहास लिखने के लिए देश के वैज्ञानिकों तथा देश की जनता को हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि आज हम सभी भारतीयों के लिए गर्व का दिन है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र सिंह चौधरी ने राजधानी लखनऊ के अटल…
Read More
विशेष : विश्व को भारत की देन है योग… करे निरोग

विशेष : विश्व को भारत की देन है योग… करे निरोग

डॉ. सौरभ मालवीय भारतीय संस्कृति में योग का महत्त्वपूर्ण स्थान है। योग शब्द संस्कृत के युज से बना है। युज का अर्थ है शारीरिक एवं मानसिक शक्तियों को एकत्रित करना। योग साधक को उसकी आत्मा से जोड़ता है। योग के द्वारा साधक अपनी मानसिक एवं शारीरिक शक्तियों को एकत्रित कर लेता है। योग का संबंध शरीर एवं मन दोनों से है। यह अध्यात्म से भी जुड़ा है। योग के आठ अंग हैं- यम, नियम, आसन, प्राणायम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान एवं समाधि। योग एक कला, साधना एवं विद्या है। योग की चार विधियां हैं, जिनमें कर्म योग, भक्ति योग, राज योग…
Read More
मछली के कचरे का उपयोग से कम हो सकता जल प्रदूषण

मछली के कचरे का उपयोग से कम हो सकता जल प्रदूषण

फिश मील उद्योग की निरंतरता एवं मछुआरों की आजीविका वेबिनार भारत सरकार के मत्स्य पालन, पशुपालन एवं डेयरी मंत्रालय के अंतर्गत मत्स्य विभाग ने आजादी का अमृत महोत्‍सव के तहत 'सस्‍टेनेबिलिटी ऑफ फिश मील इंडस्‍ट्री एंड द लाइवलीहुड्स ऑफ फिशरमेन' यानी 'फिश मील उद्योग की निरंतरता एवं मछुआरों की आजीविका' विषय पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन किया। वेबिनार की शुरुआत भारत सरकार के मत्‍स्‍य पालन विभाग में संयुक्‍त सचिव श्री सागर मेहरा के स्वागत भाषण से हुई। उन्होंने बताया कि एक्वाकल्चर के जरिये पैदा होन वाली करीब 70 प्रतिशत मछलियों और क्रस्टेशियन को प्रोटीन युक्त भोजन खिलाया जाता है…
Read More
एक दिन में चार भूकंप से तुर्की तबाह, भारत ने मदद का हाथ बढ़ाया

एक दिन में चार भूकंप से तुर्की तबाह, भारत ने मदद का हाथ बढ़ाया

तुर्किये में एक दिन के भीतर चार भूकंप से धरती डोल गई है| भूकंप भी इतना भयावह कि उसके झटके साइप्रस और मिस्र तक महसूस किए गए| सीरिया में इसी भूकंप से भारी तबाही देखी जा रही है| तुर्किये में दक्षिण पूर्व में सोमवार को आए 7.8 तीव्रता के भूकंप से अब तक हजारों की मौत हो गई है | हालाँकि भूकंप के झटके अभी तक रुक- रुक दर्ज किये जा रहे हैं| वहीँ बर्फ़ीले तूफ़ान से रेस्क्यू में बाधा भी आ रही है| भारत इस आपदा में तुर्किये के साथ खड़ा है| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तुर्की में आपदा…
Read More
उम्र की डबल सेंचुरी मारने जा रहा है जोनाथन कछुआ

उम्र की डबल सेंचुरी मारने जा रहा है जोनाथन कछुआ

इस दुनियां में पैदा होने वाले किसी भी प्राणी की अधिकतम आयु कितनी हो सकती है! आप कहेंगे! सौ वर्ष! लेकिन कछुए की उम्र सौ वर्षों से भी कहीं अधिक मानी जाती है! कई कछुए तो 150 वर्षों तक भी जीवित रहते हैं! लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि जोनाथन नाम के कछुए ने इस वर्ष अपना 190वां जन्मदिन मनाया है! इसी के साथ उसका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में सबसे उम्र दराज कछुए के रूप में दर्ज हो गया है!   जानकारी के मुताबिक जोनाथन का जन्म साल 1832 में हुआ था! उसको 1882 में सेशेल्स से दक्षिण अटलांटिक…
Read More
हफ्ते में दो बार भूकंप, दिल्ली में खतरे की घंटी

हफ्ते में दो बार भूकंप, दिल्ली में खतरे की घंटी

दिल्ली-एनसीआर में शनिवार को एक हफ्ते में दूसरी बार भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। जैसे ही लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए वह घरों व ऑफिसों से बाहर निकलने लगे। करीब 30 से 40 सेकंड तक यह भूकंप के झटके महसूस किए गए। कमरों में पंखे हिलने लगे और गिलास में रखा पानी हिल रहा था। यूपी-उत्तराखंड के कई जिलों में यह झटके महसूस किए गए हैं। बताया जा रहा है कि भूकंप की तीव्रता 5.4 मापी गई थी। भूकंप का केंद्र नेपाल का शिलांग बताया गया है। इससे पहले उत्तराखंड में बुधवार सुबह करीब 6.27 बजे…
Read More
खतरनाक होगा जलवायु परिवर्तन की अनदेखी

खतरनाक होगा जलवायु परिवर्तन की अनदेखी

अरविंद जयतिलक संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी इंटरगवर्नमेंटल पैनल (आईपीसीसी) की रिपोर्ट चिंतित करने वाला है कि पृथ्वी के बढ़ते तापमान से मानव समुदाय को खाद्य पदार्थ व पेयजल की कमी से लेकर आर्थिक नुकसान व बीमारियों सरीखे कई अन्य अप्रत्याशित संकटों का सामना करना पड़ सकता है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि जलवायु परिवर्तन से तटीय क्षेत्रों में समुद्र का जलस्तर उठेगा और इस कारण होने वाले नुकसान में विेश्व के 20 देशों में तकरीबन 12 देश एशिया के ही होंगे। रिपोर्ट के मुताबिक इन देशों के तकरीबन 3.5 करोड़ लोग बुरी तरह प्रभावित होंगे। इसमें भारत भी…
Read More
आरोग्य भारत : बथुआ साग नहीं एक औषधि है  !

आरोग्य भारत : बथुआ साग नहीं एक औषधि है !

डॉ रजनीश त्यागी सागों का सरदार है बथुआ, सबसे अच्छा आहार है बथुआ ! बथुआ को अंग्रेजी में Lamb's Quarters कहते हैं  ! इसका वैज्ञानिक नाम Chenopodium album है  ! साग और रायता बना कर बथुआ अनादि काल से खाया जाता रहा है ! लेकिन क्या आपको पता है कि विश्व की सबसे पुरानी महल बनाने की पुस्तक शिल्प शास्त्र में लिखा है कि हमारे बुजुर्ग अपने घरों को हरा रंग करने के लिए पलस्तर में बथुआ मिलाते थे ! हमारी बुजुर्ग महिलायें सिर से ढेरे व फाँस (डैंड्रफ) साफ करने के लिए बथुए के पानी से बाल धोया करती…
Read More
करोना ने किया पर्यटन देश श्री लंका को कंगाल

करोना ने किया पर्यटन देश श्री लंका को कंगाल

करोना काल ने पड़ोसी देशों की कमर तोड़ दी है। श्रीलंका की आय का प्रमुख श्रोत पर्यटन उद्योग है लेकिन कोरोना महामारी के दौरान पर्यटन पर ग्रहण लग गया। जिसके बाद देश आर्थिक संकट से घिर गया है। और इमरजेंसी के हालात पैदा हो गए हैं।    श्रीलंका में यह क्षेत्र आमतौर पर 30 लाख से अधिक लोगों को रोजगार देता है और जीडीपी में इसकी हिस्सेदारी पांच प्रतिशत से अधिक है. कोरोना के चलते पर्यटन उद्योग ठप होने से श्रीलंका ने भारी मात्रा में विदेशी ऋण भी ले रखा है। आर्थिक संकट के बीच श्रीलंका ने खाद्य संकट को…
Read More
मृतप्राय पूर्वी काली नदी को फिर कर दिया जीवित

मृतप्राय पूर्वी काली नदी को फिर कर दिया जीवित

अगर इच्छा शक्ति हो और इरादों में मजबूती तो म्रतप्राय में जीवन फूंका जा सकता है। नदी पुत्र और नीर फाउंडेशन ने इस कहावत को अपनी मेहनत से सही साबित कर दिया है। कुछ वर्षों पहले पूर्वी काली नदी अपने उद्गम स्थल पर ही म्रतप्राय यानि सूख चुकी थी। इस सुखी नदी को जीवित करने का बीड़ा आज से दो साल पहले उठाया गया था जिसका परिणाम अब जीवंत नदी के रूप में सामने है।   नदी पुत्र रमन कान्त बताते हैं कि कार्य कठिन था पर असंभव कतई नहीं।  नदी उद्गम की लगभग 200 बीघा (15 हेक्टेयर) कृषि भूमि…
Read More